Water management In poultry
ब्रायलर पोल्ट्री ट्रेनिंग हिंदी !

पोल्ट्री फार्म पर पानी का प्रबंधन और सावधानियां !

कुछ पोल्ट्री किसान  जितने भी प्रयास कर लें उनके पोल्ट्री फार्म पर बेहतर परिणाम नहीं आते ! वह पानी की कमी भी हो सकती है ! मात्र कुछ रुपयों से जांच करके आप पोल्ट्री फार्म पर पानी में मौजूद कमियाँ पहचान कर उन्हें दूर कर सकते है !

पानी पोल्ट्री फार्म में सबसे महत्वपूर्ण माना गया है ! पक्षी के शरीर का लगभग 65 से 80  % हिस्सा उम्र के हिसाब से जल ही होता है !

पानी की लागत ,आद्रता ,तापमान फीड फॉर्मूले और कितना वजन बढ़ रहा है उसपर निर्भर करती है ! पानी की गुणवत्ता के लिये पानी में खनिज लवण ( मिनरल )पी.एच् (P.H) , और पानी में कितना सूक्ष्म जीव संदूषण (  microbial contamination) सब बातों पर ध्यान देना होता है !

उम्र के हिसाब और वातावरण के हिसाब से पानी की लागत बढ़ती जाती है ! अगर किसी वजह से पानी की लगत घटती है तो तुरंत इस बात पर तुरंत  ध्यान देना चाहिए , कि कहीं कोई गलती तो नहीं हो रही !

पानी में लोहे और मैगनीस की मात्रा पानी को कड़वा कर देती है ! इससे भी पानी की लागत कम हो सकती है ! और सर्दियों में गाउट आने और गर्मियों में हीट स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है !

पानी में कैल्शियम और मैग्नीशियम की अधिकता पानी  की कठोरता को बड़ा देती है !

इसलिए फ़िल्टर इनको साफ़ करने में मदद करता है ! अगर ऐसा नहीं किया जाता तो ये पानी की पाइप लाइन में जमकर ड्रिंकर्स और पानी की सप्लाई को बाधित कर सकते है !

पानी को फ़िल्टर करने के लिये 40 -50 माइक्रोन का फ़िल्टर बेहतर होता है !

पी एच् अगर 8 से ज्यादा हो तो पानी कड़वा महसूस होता है ! और ये पक्षी के  बाधित करता है और ज्यादा बीमारियों का जनक होता है !

पोल्ट्री में पी।  एच को 6 -6.5 के बीच बेहतर होता है ! और  इसे आर्गेनिक या इनऑर्गेनिक एसिड से कम किया जा सकता है ! परन्तु  आर्गेनिक एसिड से ज्यादा इनऑर्गेनिक एसिड होता है !

आर्गेनिक  एसिड पानी की खपत को कुछ कम कर सकते है ! परन्तु निर्माता कंपनी की सलाह से अधिकतर पोल्ट्री किसान इसे उपयोग में लाते है !

 

टीडीएस  (TDS) (पानी  में पूर्णतः घुले हुए ठोंस पदार्थ –  पानी में घुले हुए काफी मिनरल या सख्त पदार्थ होते है ! उनकी मात्रा की गणना कर  TDS मापा जाता है ! जो एक साधारण से  TDS   मीटर से माप लिया जाता है !जो बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाता है !

 

अनेकों पोल्ट्री किसान  TDS को मापते ही नहीं है ! इससे कईं बार बहुत नुक्सान हो जाते है !

पोल्ट्री फर्म पर TDS 1000   ppm से कम  बहुत बेहतर माना जाता है !

पोल्ट्री फर्म पर TDS  1000-3000 ppm से कम  बहुत बेहतर माना जाता है !

कईं बार पतली बीटों की समस्या जरूर हो सकती है ! परन्तु लेकिन 1000-3000 ppm पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कोई समस्या नहीं देखी गयी है !

 

परन्तु 1000-3000 ppm से अधिक टीडीएस  (  TDS) पोल्ट्री के पक्षियों के लिए सही नहीं मानी जाती !

 

इसलिए  TDS को भी जरूर मापना चाहिये !

 

 

हाइड्रोजन पेरोक्साइड बायो फिल्म को ख़त्म करने के लिये बेहतर माना जाता है ! ये निर्माता  हाइड्रोजन पेरोक्साइड की मात्रा के % से आपको बता देता है ! और पक्षी की उपस्थिति और अनुपस्थिति में मात्रा अलग अलग हो सकती है !

क्लोरीन की गोलियां या पॉवडर (Sodium Dichloro-IsoCynunurate ) भी बाजार में आसानी से उपलब्ध होती है ! जिसे भी आप निर्माता के बताये  डोज़ के हिसाब से उपयोग में ला सकते है !

क्लोरीन की गोलियां या पॉवडर   6.0 to 7.0  पी।  एच पर बेहतर परिणाम देती है !

पानी में सूक्ष्म जीव पनपते रहते है ! उन दुष्प्रभावों से ब्रायलर पक्षी को बचाने के लिये पानी को पानी को सैनेटाइज़ करना जरूरी होता है ! ताकि पानी में रोगाणुओं की संख्या ना बड़े !

 

पानी के साथ साथ पानी की पाइपलाइन ,पानी की टंकी , पानी के बर्तन भी साफ़ करने जरूरी है ! और अच्छे डिसइंफेक्टेंट से ही साफ़ करना चाहिए  !

 

पर ये ध्यान रखना चाहिये , कि पक्षी की उपस्थिति में तथा पक्षी की अनुपस्थिति में कौन सा उत्पाद उपयोग में लाना चाहिये ! ये उत्पाद पर हर निर्माता बताता है! और निर्माता के बताये निर्देशों का सख्ती से पालन करना चाहिये !

 

अगर पानी में रोगाणुओं या विषाणुओं ने बायो फिल्म ( एक कफ जैसी परत जो किसी भी परत पर  पर चिपक जाती है और उसमे विषाणु या रोगाणु  ( वायरस या बैक्टीरिया ) एक स्थायी ग्रुप बना लेते है ! ) बना ली तो हानिकारक  विषाणु या रोगाणु ( वायरस या बैक्टीरिया ) डिसइंफेक्टेंट  से भी बच जाते है ! और और ज्यादा नुकसानदायक होते जाते है !

 

पानी का टैंक और पूरे सिस्टम की साफ़ सफाई !

 

ब्रायलर पक्षी निकल जाने के बाद सबसे पहले पानी के टैंक की सफाई करनी है ! किसी अच्छे डिसइंफेक्टेंट से पूरे टैंक को रगड़ कर साफ़ करना चाहिए !

डिसइंफेक्टेंट  का उपयोग उसे बनाने वाले निर्माता के निर्देशों के अनुसार उपयोग में लायें !

 

पानी की टंकी और सम्बंधित सभी ड्रिंकर्स से पानी निकाल देना चाहिये ! बाद में कुछ पानी टंकी में फिर से भर दें ! ! सिर्फ पानी की मूख्य टंकी में इतना पानी छोड़ देना चाहिये कि , प्रत्येक ड्रिंकर और पूरी पाइपलाइन में वह पानी कम ना पडे !

आगे समझते है ! पानी के टैंक में इतना पानी क्यों भरा है ! पानी के टैंक में पानी ,सभी पाइपलाइन सप्लाई के भीतर बीमारी पैदा करने वाले रोगाणुओं , विषाणुओं  और बायो फिल्म को जड़ से ख़त्म करने के लिये किया है ! पानी की टंकी में कुछ पानी में अच्छा डिसइंफेक्टेंट मिलाना है ! और पानी की सप्लाई शुरू कर देनी है !

फिर पानी को किसी टूंटी से बाहर निकलने दे और तब तक निकालें जब तक डिसइंफेक्टेंट का पूरा पानी हर ड्रिंकर और हर पाइपलाइन में अच्छे से पहुँच जाये ! अब इस पानी को लगभग 12 घंटे तक या उससे भी ज्यादा तक पाइपों और ड्रिंकर में रहने दें ताकि हर बीमारी फैलाने वाले रोगाणु और विषाणु पूरी तरह ख़त्म हो जायें !

सभी ड्रिंकर्स में भी पानी पूरी तरह आ जाना चाहिये ! ताकि सभी ड्रिंकर भी साफ़ हो जायें ! ड्रिंकर्स  में आये डिसइंफेक्टेंट्स भी कम से कम 12 घंटे पड़े रहें !

 

सावधानियाँ – किसी भी केमिकल को उपयोग करने से पहले आप या आपका स्टाफ पूरी सावधानियां बरतें ! आँखों में केमिकल जाने  और पानी की टंकी साफ़ करते वक़्त अनेकों बुरी घटनायें हो चुकी है !

इसलिये किसी बोतल को खोलते वक़्त आँखों और स्प्रे करते वक़्त , पानी की टंकी साफ़ करते वक़्त आप या आपका स्टाफ पूरी सावधानी रखें ! नहीं तो आप परेशानी में पढ सकतें है !

उसके बाद सभी डिसइंफेक्टेंट वाले पानी को बहा कर सभी ड्रिंकर्स और टैंक साफ़ कर लें ! सभी ड्रिंकर्स और फीडर भी  डिसइंफेक्टेंट युक्त पानी से साफ़ करने चाहियें !

 

पानी के टेस्ट

पानी के टेस्ट साल में एक बार जरूर कर लेने चाहियें ! और पानी का सैंपल टंकी से नहीं अंतिम टूंटी से लेना चाहिये ! ो सैंपल बेहद साफ़ शीशी में लेना होता है ! जिसमे किसी भी प्रकार का केमिकल का अंश तक भी ना हो !

सैंपल लेने के बाद ध्यान रखें पानी संदूषित ( contaminate) नहीं होना चाहिये !

और पानी का सैंपल लेने से पहले पानी कुछ सेकंड बह जाने के बाद ही लें !

नीचे दिये पैरामीटर अच्छे पानी के लिये बेहतर होते है !

Contaminant , mineral

or  ion

Level Considered Average Maximum Acceptable Level
Bacteria Total bacteria 0CFU/ml 100 CFU/ml
Coliform bacteria 0CFU/ml 50CFU/ml
Acidity and hardness

Ph

6.8-7.5 6.0-8.0
Total Hardness 60-180 ppm 110 ppm
Naturally occurring elements Calcium (Ca) 60mg/L
Chloride (Cl) 14 mg/L 250MG/L
Copper (Cu) 0.002mg/L 0.6mg/L
Iron (Fe) 0.2mg/L 0.3mg/L
Lead (Pb) 0 0.02 mg/L
Magnesium (Mg) 14mg/L 125 mg/L
Nitrate 10 mg/L 25 mg/L
Sulphate 125 mg/L 250 mg/L
Zinc 1.5 mg/L
Sodium (Na) 32mg/ L 50 mg/L

 

 

पोल्ट्री फार्म पर पीने वाले पानी का तापमान -पोल्ट्री फार्म पर पीने वाले पानी का तापमान भी काफी महत्व रखता है ! सर्दियों में जरूरत से ज्यादा ठंडा पानी देने से और गर्मियों में जरूरत ये ज्यादा गर्म पानी देने से ग्रोथ बुरी तरह प्रभावित हो सकती है ! और सर्दियों में गाउट की समस्या भी परेशान कर सकती है !

ये जानने के लिये जो पानी पक्षी को दिया जाना है !उसमे थर्मामीटर डाल कर चेक कर लें ! अगर पीने वाले पानी का तापमान 18 डिग्री से कम है तो वो पानी पक्षी को नहीं देना चाहिये !

ऐसा देखा गया है सर्दियों में 18-21 Degree Celsius ( (64-70°F) तक के तापमान का पानी देना बेहतर माना गया है ! साधारण शब्दों में गर्मियों में ठंडा और सर्दियों में बिना ठंडक का पानी देना चाहिये !

Send or Share This Post To Others By Clicking Below Platforms.
poultryindiatv
We are Providing Egg and broiler prices from lat 10 Years for people related to poultry's Industry.We are also adding blogs related to poultry training including broiler,layer and parent segment.
https://www.poultryindiatv.com

Leave a Reply