Fogger For Poultry.
ब्रायलर पोल्ट्री ट्रेनिंग हिंदी !

पोल्ट्री में फॉगर का महत्व !

फॉगर आपके पोल्ट्री फार्म को ठंडा रखने में मदद करते है! ताकि अति गर्मी के प्रभाव से ब्रायलर पक्षी की मृत्यु ना हो ! 

एक स्वचालित पानी की निकासी का वाल्व प्रत्येक लाइन पर होना चाहिये ताकि पंप बंद होने पर फालतू पानी बाहर की तरफ निकासी की जा सके ! इससे फालतू पानी का टपकना बंद हो जाता है और शेड बेहद गीला नहीं होता !

पम्प सिर्फ तापमान से ही नहीं आद्रता से भी नियंत्रित होने चाहियें !

फॉगर  28 °C (82 °F) पर चलने शुरू हो जाने चाहियें !

कम प्रेशर वाले फॉगर  7-14 bar (100-200 psi) ,  30 माइक्रोन से बड़ी महीन बूंदें बनाते है |  और  ज्यादा प्रेशर वाले फॉगर  28-41 bar (400-600 psi ,  10 -15  माइक्रोन के लगभग महीन बूंदें बनाते है |

जितनी महीन बूंदें बनेंगी उतना ज्यादा बेहतर माना जाता है !

नोज़ल इस तरीके से लगानी चाहिये हवा की रफ़्तार  600 ft./min से कम हो या अंदाज़े से देखना चाहते है तो ये सुनिश्चित कर लें बिछावन या फर्श गीला ना हो !

अगर 1 नोज़ल  की महीन पानी की धुंध अन्य नोज़ल  की महीन पानी की धुंध से मिलती है तो भी ये ठीक नहीं है ! इससे आद्रता बढ़ जायेगी ! और ये मृत्यु दर भी बड़ा सकती है ! इसलिये 1 नोज़ल की दुसरे नोज़ल से दूरी होना जरूरी है! ताकि  1 नोज़ल की महीन पानी की धुंध अन्य दुसरे नोज़ल के पानी की धुंध से ना टकराये !

क्योंकि पक्षी आराम दायक माहौल का आदि हो जाता है और बहुत अधिक गर्मी में फॉगर ना चलने से पक्षी तनाव में आ जाता है!जेनेरेटर का बैकअप आपके पोल्ट्री फार्म पर जरूर हो नहीं तो पोल्ट्री फार्म पर मृत्यु दर बढ़ सकती है !

Send or Share This Post To Others By Clicking Below Platforms.
poultryindiatv
We are Providing Egg and broiler prices from lat 10 Years for people related to poultry's Industry.We are also adding blogs related to poultry training including broiler,layer and parent segment.
https://www.poultryindiatv.com

Leave a Reply